Lyrics of Bajrang Baan बजरंग बाण हिंदी अनुवाद सहित

बजरंग बाण हिंदी अनुवाद सहित Lyrics of Bajrang Baan in Sanskrit and English

Origin of Bajrang Baan

This prayer, The Arrow of Hanuman is a very powerful mantra to destroy negativity and fear. It is said that sadhus in the jungle sing this when they are afraid. Correct pronunciation of the beej mantras in this prayer is very important. So if you want to learn it, pay close attention to the transliteration. It will being Hanuman-ji to protect you in any fearful situations.

Lyrics-of-Bajrang-Baan-बजरंग-बाण-हिंदी-अनुवाद-सहित

भारत में, हर प्रमुख दैवीय ऊर्जा के कई रूप और नाम हैं। भगवान हनुमान के कई गुणों में, सबसे लोकप्रिय वह है जहां हनुमान को बजरंग बलि के रूप में संबोधित किया जाता है; इसका अर्थ है वह जो निर्दोष और प्रसन्न करने में आसान हो।

बजरंग बाण के बारे में कहा जाता है कि इसका प्रयोग हर कहीं, हर किसी को नहीं करना चाहिए। जब व्यक्ति घोर संकट में हो तब ही इसका इस्तेमाल करना चाहिए वरना राम भक्त हनुमान इसके प्रयोग में हुई त्रुटि को क्षमा नहीं करते हैं। छोटी-मोटी समस्याओं में इसका प्रयोग निषेध है। इसका प्रयोग किसी अत्यंत अभिष्ट कार्य के लिए भी किया जाता है मगर इसमें सावधानी रखने की जरूरत होती है। बजरंग बाण में पूरी श्रद्धा रखने और निष्ठापूर्वक उसके बार बार दोहराने से हमारे मन में हनुमान जी की शक्तियां जमने लगती हैं। शक्ति के विचारों में रमण करने से शरीर में वही शक्तियां बढ़ती हैं। शुभ विचारों को मन में जमाने से मनुष्य की भलाई की शक्तियों में बढोत्तरी होने लगती है। उसका सत् चित् आनंद स्वरूप खिलता जाता है। मामूली कष्टों और संकटों के निरोध की शक्तियां विकसित हो जाती हैं तथा साहस और र्निभीकता आ जाती है। इष्ट कार्य की सिद्धि के लिए हनुमान जयंती या फिर मंगलवार या शनिवार का दिन तय करें। हनुमानजी की प्रतिमा या आकर्षक चित्र रख लें। ॐ हनुमंते नम: का जप निरंतर करें। पूजा के लिए कुशासन (एक विशेष प्रकार की घास से बना आसन) प्रयोग करें। पूजा के लिए स्थान का शुद्ध एवं शान्त होना जरूरी है। किसी एकान्त अथवा निर्जन स्थल में स्थित हनुमानजी के मन्दिर में प्रयोग करें।

हनुमान जी की पूजा में दीपदान का खास महत्व होता है। पांच अनाजों (गेहूं, चावल, मूंग, उड़द और काले तिल) को पूजा से पहले एक-एक मुट्ठी मात्रा में लेकर शुद्ध गंगाजल में भिगो दें। अनुष्ठान वाले दिन इन अनाजों को पीसकर इस आटे से दीया बनाएं। बत्ती के लिए एक कच्चे सूत को अपनी लम्बाई के बराबर काटकर लाल रंग में रंग लें। इस धागे को पांच बार मोड़ लें। इस प्रकार के धागे की बत्ती को सुगन्धित तिल के तेल में डालकर प्रयोग करें। जब तक पूजा चलें, यह दिया जलता रहना चाहिए। गूगल व धूप की विशेष व्यवस्था रखें। जप के प्रारम्भ में यह संकल्प लें कि आपका कार्य जब भी सिद्ध होगा, हनुमानजी की सेवा में नियमित कुछ अवश्य करेंगे। अब शुद्ध उच्चारण से हनुमान जी की छवि पर ध्यान केन्द्रित करके बजरंग बाण का जाप प्रारम्भ करें। 'श्रीराम' से लेकर 'सिद्ध करैं हनुमान' तक एक बैठक में ही इसकी एक माला जप करनी है।

बजरंग बाण के श्रद्धापूर्वक उच्चारण कर लेने से जो मनुष्य शक्ति के पुंज महावीर हनुमान जी को स्थायी रूप से अपने मन में धारण कर लेता है उसके सब संकट अल्पकाल में ही दूर हो जाते हैं। साधक को चाहिए कि वह अपने सामने हनुमान जी का कोई चित्र रख ले और पूरे आत्मविश्वास तथा निष्ठाभाव से उनका मानसिक ध्यान करें। मन में ऐसी धारणा करें कि हनुमान जी की दिव्य शक्तियां धीरे धीरे मेरे अंदर प्रवेश कर रही हैं। मेरे अंतर तथा चारों ओर के वायु मंडल आकास में स्थित संकल्प के परमाणु उत्तेजित हो रहे हैं। ऐसे सशक्त वातावरण में निवास करने से मेरी मन शक्ति के बढ़ने में सहायता मिलती है। जब यह मूर्ति मन मंदिर में स्थायी रूप से उतरने लगे, अंदर से शक्ति का स्त्रोत खुलने लगे तभी बजरंग बाण की सिद्धि समझनी चाहिए। श्रद्धायुक्त अभ्यास ही पूर्णता की सिद्धि में सहायक होता है। पूजन में हनुमान जी की शक्तियों पर एकाग्रता की आवश्यकता है।

Bajrang Baan in English with meaning

  • ॐ Bajrang Baan Dhayan ॐ
    Sriram Atulit Baldham Hemshailabhdeh |
    Danuj Van Kushananu Gyaninamgragyam ||
    Sakalgunnidhan vanrayammdhishan |
    Raghupati Priybhakt Vaatjaatan Namami ||
  • ॥ Doha ॥
    Nishchaya Prema Pratiti Te,Binaya Karai Sanamana।
    Tehi Ke Karaja Sakala Shubha,Siddha Karai Hanum
  • Jo Bhi byakti prem vishwas ke sath vinay purvak apni asha rakhta hai
    Ram bhakt hanuman ji ki kripa se uske sabhi karya subhdyaka aur safal hote hai.
  • ॥ Chaupai ॥
    Jaya Hanumanta Santa Hitakari।Suni Lijai Prabhu Araja Hamari॥
    Jan Ke Kaja Vilamba Na Kijai।Atura Dauri Maha Sukha Dijai॥
  • Hey Bhakt Vatsal Hanuman ji santo ke Hitkari hai, Kripya Purvak meri vinti bhi sun lijiye
    Hey prabhu pawanputra aapka das ati sankat me hai, Ab bilamb mat kijiye yevam pawan gati se aakar bhakt ko sukhi kijiye.
  • Jaise Kudi Sindhu Wahi Para।Surasa Badana Paithi Bistara॥
    Age Jaya Lankini Roka।Marehu Lata Gai Sura Loka॥
  • Jis Prakar se Aapne khel khel me samundra paar kar liya tha aur Sursha jaisi Prabal aur chhali ke muh me pravesh karke vapas bhi laut aaye
    Jab aap lanka pahuche aur waha aapko waha ki prahari lankini ne ne roka to aapne ek hi prahar me use devlok bhej diya.
  • Jaya Vibhishana Ko Sukha Dinha।Sita Nirakhi Parama Pada Linha॥
    Baga Ujari Sindhu Maham Bora।Ati Atura Yama Katara Tora॥
  • Ram bhakt bibhishan ko jis prakar apne sukh kiya, Aur mata sita ke kripapatra bankar vah param padh prapt kiya jo atyant hi durlabh hai
    Kautuk kautuk me aapne sare baag ko hi ukharkar samundra me dubo diya aur baag rakshako ko jisko jaisa dand uchit tha waisa dand diya.
  • Akshaya Kumara Mari Sanhara।Luma Lapeti Lanka Ko Jara॥
    Laha Samana Lanka Jari Gai।Jaya Jaya Dhuni Sura Pura Maham Bhai॥
  • Bina kisi sram ke Kshar matra me jis prakar aapne dashkandhar putra akhsay kumar ka sanhar kar diya aur aapni puchh se sampurna lanka nagari ko jala dala |
    Kisi ghas fush ke chhapar ki tarah sampuran lanka nagari jal gayi aapka kritya dekhkar har jagah aapki jay jaykar hui.
  • Aba Vilamba Kehi Karana Swami।Kripa Karahun Ura Antaryami॥
    Jaya Jaya Lakshmana Prana Ke Data।Atura Hoi Dukha Karahun Nipata॥
  • Hey Prabhu to fir ab mujh das ke karya me itna bilamb kyu? Kripya purvak mere kashto ka haran karo kyoki aap to sarvgya aur sabse hirdya ki baat jante hai | Hay dino ke udharak aapki kripya se hi lakshaman ji ke pran bache the, jis prakar aapne unke pran bachaye the usi prakar is din dukho ka nivaran bhi karo.
  • Jai Giridhara Jai Jai Sukha Sagara।Sura Samuha Samaratha Bhatanagara॥
    Om Hanu Hanu Hanu Hanu Hanumanta Hathile।Bairihin Maru Bajra Ki Kile॥
  • Hey yodhao ke nayak aur sab prakar se samarth, parvat ko dharan karne valo aur sukho ke sagar mujh par kripya karo, Hey hanumant hey dukh bhanjan hey hathile hanumant mujh par kripya karo aur mere satruvo ko apne vrajya se nistej aur nispran kar do.
  • Gada Bajra Lai Bairihin Maro।Maharaja Prabhu Dasa Ubaro॥
    Omkara Hunkara Mahaprabhu Dhavo।Bajra Gada Hanu Vilamba Na Lavo॥
  • Hey prabhu gada aur vraj lekar mere satruvo ka sanhar karo aur apne is das ko bipatiyo se ubar lo, Hey pratipalak meri karun pukar sunkar hukar karke meri bipatiyo aur satruyo ko nistej karte huye meri raksha hetu aao, Sighra aapne astra sastra se satruyo ka nistaran kar meri raksha karo.
  • Om Hrim Hrim Hrim Hanumanta Kapisa।Om Hum Hum Hum Hanu Ari Ura Shisha॥
    Satya Hou Hari Shapatha Payake।Ramaduta Dharu Maru Dhaya Ke॥
  • Hey hi hi hi rupi shaktishali kapish aap shakti ko atyant priye ho aur sada unke sath unke sath unki seva me rahte ho, hu hu hunkar rupi prabhu mere satruvo ke hirdya aur mastak vidiryan kar do. Hey dinanath aapko sri hari ki sapath hai meri vinti ko puran karo - hey ramdut mere struyo ka aur meri badhayo ka bilay kar do.
  • Jaya Jaya Jaya Hanumanta Agadha।Dukha Pavata Jana Kehi Aparadha॥
    Puja Japa Tapa Nema Achara।Nahin Janata Kachhu Dasa Tumhara॥
  • Hey Agadh shaktiyo aur kripya ke swami aapki sada hi jay ho, aapke is das ko kis apradh ka dand mil raha hai, Hey kripa nidhan aapka yah das puja ki vidhi , jap ka niyam , tapasya ki prakriya tatha achar -vichar sambandhi koi bhi gyan nahi rakhta mujh agyani das ka udhar karo.
  • Vana Upavana Maga Giri Griha Mahin।Tumare Bala Hama Darapata Nahin॥
    Paya Paraun Kara Jori Manavon।Yaha Avasara Aba Kehi Goharavon॥
  • Aapki kripa ka hi prabhav hai ki jo aapki saran me hai vah kabhi bhi kisi bhi prakar ke bhay se bhaybhit nahi hota chahe vah isthal koi jungal ho athva sundar upvan chahe ghar ho athva koi parvat.
    hey prabhu yah das aapke charno me para hua hai, hath jodkar aapke apni bipati kah raha hu, aur is brahamand me bhala kaun hai jisse apni bipati ka hal kah raksha ki guhar lagau.
  • Jaya Anjani Kumara Balavanta।Shankara Suvana Dhira Hanumanta॥
    Badana Karala Kala Kula Ghalaka।Rama Sahaya Sada Pratipalaka॥
  • Hey anjani putra hey atulit bal ke swami, Hey shiv ke ansh ke veer hanuman ji meri raksha karo
    Hwy prabhu aapka sarir ati vishal hai aur aap sakshat kaal ka bhi naas karne me samarth hai, Hey ram bhakt, ram ke priye aap sada hi dono ka palan karne wale hai.
  • Bhuta Preta Pishacha Nishachara।Agni Baitala Kala Marimara॥
    Inhen Maru Tohi Shapatha Rama Ki।Rakhu Natha Marajada Nama Ki॥
  • Chahe vah bhut ho athva pret ho bhale hi vah pishach ya nishachar ho ya agiya betal ho ya fir anya koi bhi ho.
    Hey prabhu aapko aapke ishat bhagwan raam ki saugandh hai abilamb hi in sabka sanhar kar do aur bhakt pratipalak aur raam bhakt naam ki maryada ki aan rakh lo.
  • Janakasuta Hari Dasa Kahavo।Taki Shapatha Vilamba Na Lavo॥
    Jai Jai Jai Dhuni Hota Akasha।Sumirata Hota Dusaha Dukha Nasha॥
  • Hey janaki aur janaki balabh ke param priye aap unke hi daas kahate ho na, ab aapko unki hi saugandh hai is das ki vipati nivaran me bilamb maat kijiye
    Aapki jay jaykar ki dhawani sada hi dhawani sada hi aakash me hoti rahti hai aur aapka sumiran karte hi darun dukho ka bhi nash ho jata hai.
  • Charana Sharana Kari Jori Manavon।Yahi Avasara Aba Kehi Goharavon॥
    Uthu Uthu Chalu Tohin Rama Duhai।Panya Paraun Kara Jori Manai॥
  • Hey ramdut ab mai aapke charno ki sharan me hu aur hath jod kar aapko mana raha hu - aise bipati ke aushar par aapke atirikt kisse apna dukh bakhan karu
    Hey karunanidhi ab utho aur aapko bhagwan ram ki saugandh hai mai aapse hath jorkar aur aapke charno me girkar apni bipati nash ki prathna kar raha hu.
  • Om Chan Chan Chan Chan Chapala Chalanta।Om Hanu Hanu Hanu Hanu Hanumanta॥
    Om Han Han Hanka Deta Kapi Chanchala।Om San San Sahama Parane Khala Dala॥
  • Hey chan varn rupi tirvstitiarv veg se chalne wale , hey hanumant lala meri vipatiyo ka naas karo,
    Hey han varn aapki hank se hi samasth dust jan aise nistej ho jate hai jaise suryoday ke samay andhkar saham jata hai.
  • Apane Jana Ko Turata Ubaro।Sumirata Hoya Ananda Hamaro॥
    Yahi Bajrang Baan Jehi Maro।Tahi Kaho Phira Kauna Ubaro॥
  • Hey prabhu aap aise aanand ke sagar hai ki aapka sumiran karte hi daas jan anandit ho uthate hai jab apne das ko bipatiyo se sigharh hi ubar lo.
    yah bajrang baan yadi kisi ko maar diya jaye to fir bala is akhil brahamand me ubarne wala kaun hai?
  • Patha Karai Bajrang Baan Ki।Hanumata Raksha Karai Prana Ki॥
    Yaha Bajrang Baan Jo Japai।Tehi Te Bhuta Preta Saba Kampe॥
  • Jo bhi purn sardha yukat hokar niyamit is bajrang baan ka path karta hai, sree hanumant lala swem uske prano ki raksha ki raksha me tatpar rahte hai.
    Jo bhi byakati niymit is bajrang baan ka jaap karta hai, us byakati ki chhaya se bhi bahat pretadi kosho dur rahte hai.
  • Dhupa Deya Aru Japai Hamesha।Take Tana Nahin Rahe Kalesha॥
  • Jo bhi byakati dhup deep dekar sardha puvak purn samparn se bajrang baan ka path karta hai uske sareer par kabhi koi byadhi nahi byapti hai.
  • ॥ Doha ॥
    Prema Pratitin Kapi Bhajai,Sada Dharai Ura Dhyana।
    Tehi Ke Karaja Sakala Shubha,Siddha Karai Hanuman॥
  • Prem puravak aur vishwaspuravak jo kapivar shree hanuman jee ka smaran karta hai aur sada unka dhayan aapne hirdya me karta hai uske sabhi prakar ke karya hanumaan ji ki kripya se sidh hote hai.

बजरंग बाण संस्कृत श्लोक हिंदी अनुवाद के साथ

  • बजरंग बाण ध्यान
    श्रीराम अतुलित बलधामं हेमशैलाभदेहं।
    दनुज वन कृशानुं, ज्ञानिनामग्रगण्यम्।।
    सकलगुणनिधानं वानराणामधीशं।
    रघुपति प्रियभक्तं वातजातं नमामि।।
  • दोहा:
    निश्चय प्रेम प्रतीति ते, विनय करें सन्मान ।
    तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान ।।
  • जो भी व्यक्ति पूर्ण प्रेम विश्वास के साथ विनय पूर्वक अपनी आशा रखता है,
    रामभक्त हनुमान जी की कृपा से उसके सभी कार्य शुभदायक और सफल होते हैं ।।
  • Jo Bhi byakti prem vishwas ke sath vinay purvak apni asha rakhta hai
    Ram bhakt hanuman ji ki kripa se uske sabhi karya subhdyaka aur safal hote hai
  • चौपाई:
    जय हनुमन्त सन्त हितकारी । सुन लीजै प्रभु अरज हमारी ।।
    जन के काज विलम्ब न कीजै । आतुर दौरि महा सुख दीजै ॥1॥
  • हे भक्त वत्सल हनुमान जी आप संतों के हितकारी हैं, कृपा पूर्वक मेरी विनती भी सुन लीजिये ।।
    हे प्रभु पवनपुत्र आपका दास अति संकट में है , अब बिलम्ब मत कीजिये एवं पवन गति से आकर भक्त को सुखी कीजिये
  • Hey Bhakt Vatsal Hanuman ji santo ke Hitkari hai, Kripya Purvak meri vinti bhi sun lijiye
    Hey prabhu pawanputra aapka das ati sankat me hai, Ab bilamb mat kijiye yevam pawan gati se aakar bhakt ko sukhi kijiye.
  • जैसे कूदि सुन्धु के पारा । सुरसा बदन पैठि विस्तारा ।।
    आगे जाई लंकिनी रोका । मारेहु लात गई सुर लोका ॥2॥
  • जिस प्रकार से आपने खेल-खेल में समुद्र को पार कर लिया था और सुरसा जैसी प्रबल और छली के मुंह में प्रवेश करके वापस भी लौट आये ।।
    जब आप लंका पहुंचे और वहां आपको वहां की प्रहरी लंकिनी ने ने रोका तो आपने एक ही प्रहार में उसे देवलोक भेज दिया ।।
  • Jis Prakar se Aapne khel khel me samundra paar kar liya tha aur Sursha jaisi Prabal aur chhali ke muh me pravesh karke vapas bhi laut aaye
    Jab aap lanka pahuche aur waha aapko waha ki prahari lankini ne ne roka to aapne ek hi prahar me use devlok bhej diya
  • जाय विभीषण को सुख दीन्हा । सीता निरखि परम पद लीन्हा ।।
    बाग़ उजारि सिन्धु महं बोरा । अति आतुर जमकातर तोरा ॥3॥
  • राम भक्त विभीषण को जिस प्रकार अपने सुख प्रदान किया , और माता सीता के कृपापात्र बनकर वह परम पद प्राप्त किया जो अत्यंत ही दुर्लभ है ।।
    कौतुक-कौतुक में आपने सारे बाग़ को ही उखाड़कर समुद्र में डुबो दिया एवं बाग़ रक्षकों को जिसको जैसा दंड उचित था वैसा दंड दिया ।।
  • Ram bhakt bibhishan ko jis prakar apne sukh kiya, Aur mata sita ke kripapatra bankar vah param padh prapt kiya jo atyant hi durlabh hai
    Kautuk kautuk me aapne sare baag ko hi ukharkar samundra me dubo diya aur baag rakshako ko jisko jaisa dand uchit tha waisa dand diya
  • अक्षय कुमार मारि संहारा । लूम लपेट लंक को जारा ।।
    लाह समान लंक जरि गई । जय जय धुनि सुरपुर में भई ॥4॥
  • बिना किसी श्रम के क्षण मात्र में जिस प्रकार आपने दशकंधर पुत्र अक्षय कुमार का संहार कर दिया एवं अपनी पूछ से सम्पूर्ण लंका नगरी को जला डाला ।।
    किसी घास-फूस के छप्पर की तरह सम्पूर्ण लंका नगरी जल गयी आपका ऐसा कृत्य देखकर हर जगह आपकी जय जयकार हुयी ।।
  • Bina kisi sram ke Kshar matra me jis prakar aapne dashkandhar putra akhsay kumar ka sanhar kar diya aur aapni puchh se sampurna lanka nagari ko jala dala | Kisi ghas fush ke chhapar ki tarah sampuran lanka nagari jal gayi aapka kritya dekhkar har jagah aapki jay jaykar hui .
  • अब विलम्ब केहि कारण स्वामी । कृपा करहु उन अन्तर्यामी ।।
    जय जय लखन प्राण के दाता । आतुर होय दुख हरहु निपाता ॥5॥
  • हे प्रभु तो फिर अब मुझ दास के कार्य में इतना बिलम्ब क्यों ? कृपा पूर्वक मेरे कष्टों का हरण करो क्योंकि आप तो सर्वज्ञ और सबके ह्रदय की बात जानते हैं ।।
    हे दीनों के उद्धारक आपकी कृपा से ही लक्ष्मण जी के प्राण बचे थे , जिस प्रकार आपने उनके प्राण बचाये थे उसी प्रकार इस दीन के दुखों का निवारण भी करो |
  • Hey Prabh to fir ab mujh das ke karya me itna bilamb kyu? Kripya purvak mere kashto ka haran karo kyoki aap to sarvgya aur sabse hirdya ki baat jante hai | Hay dino ke udharak aapki kripya se hi lakshaman ji ke pran bache the, jis prakar aapne unke pran bachaye the usi prakar is din dukho ka nivaran bhi karo.
  • ।।जै गिरिधर जै जै सुखसागर । सुर समूह समरथ भटनागर ।।
    ।।ॐ हनु हनु हनु हनुमंत हठीले । बैरिहि मारु बज्र की कीले ॥6॥
  • हे योद्धाओं के नायक एवं सब प्रकार से समर्थ, पर्वत को धारण करने वाले एवं सुखों के सागर मुझ पर कृपा करो
    हे हनुमंत – हे दुःख भंजन – हे हठीले हनुमंत मुझ पर कृपा करो और मेरे शत्रुओं को अपने वज्र से मारकर निस्तेज और निष्प्राण कर दो ।।
  • Hey yodhao ke nayak aur sab prakar se samarth, parvat ko dharan karne valo aur sukho ke sagar mujh par kripya karo, Hey hanumant hey dukh bhanjan hey hathile hanumant mujh par kripya karo aur mere satruvo ko apne vrajya se nistej aur nispran kar do.
  • गदा बज्र लै बैरिहिं मारो । महाराज निज दास उबारो ।।
    सुनि पुकार हुंकार देय धावो । बज्र गदा हनु विलम्ब न लावो ॥7॥
  • हे प्रभु गदा और वज्र लेकर मेरे शत्रुओं का संहार करो और अपने इस दास को विपत्तियों से उबार लो ।।
    हे प्रतिपालक मेरी करुण पुकार सुनकर हुंकार करके मेरी विपत्तियों और शत्रुओं को निस्तेज करते हुए मेरी रक्षा हेतु आओ , शीघ्र अपने अस्त्र-शस्त्र से शत्रुओं का निस्तारण कर मेरी रक्षा करो ।।
  • Hey prabhu gada aur vraj lekar mere satruvo ka sanhar karo aur apne is das ko bipatiyo se ubar lo, Hey pratipalak meri karun pukar sunkar hukar karke meri bipatiyo aur satruyo ko nistej karte huye meri raksha hetu aao, Sighra aapne astra sastra se satruyo ka nistaran kar meri raksha karo.
  • ॐ ह्रीं ह्रीं ह्रीं हनुमंत कपीसा । ॐ हुं हुं हुं हनु अरि उर शीशा ।।
    सत्य होहु हरि शपथ पाय के । रामदूत धरु मारु जाय के ॥8॥
  • हे ह्रीं ह्रीं ह्रीं रूपी शक्तिशाली कपीश आप शक्ति को अत्यंत प्रिय हो और सदा उनके साथ उनकी सेवा में रहते हो , हुं हुं हुंकार रूपी प्रभु मेरे शत्रुओं के हृदय और मस्तक विदीर्ण कर दो ।।
    हे दीनानाथ आपको श्री हरि की शपथ है मेरी विनती को पूर्ण करो – हे रामदूत मेरे शत्रुओं का और मेरी बाधाओं का विलय कर दो ।।
  • Hey hi hi hi rupi shaktishali kapish aap shakti ko atyant priye ho aur sada unke sath unke sath unki seva me rahte ho, hu hu hunkar rupi prabhu mere satruvo ke hirdya aur mastak vidiryan kar do. Hey dinanath aapko sri hari ki sapath hai meri vinti ko puran karo - hey ramdut mere struyo ka aur meri badhayo ka bilay kar do.
  • जय जय जय हनुमन्त अगाधा । दुःख पावत जन केहि अपराधा ।।
    पूजा जप तप नेम अचारा । नहिं जानत हौं दास तुम्हारा ॥9॥
  • हे अगाध शक्तियों और कृपा के स्वामी आपकी सदा ही जय हो , आपके इस दास को किस अपराध का दंड मिल रहा है ?
    हे कृपा निधान आपका यह दास पूजा की विधि , जप का नियम , तपस्या की प्रक्रिया तथा आचार-विचार सम्बन्धी कोई भी ज्ञान नहीं रखता मुझ अज्ञानी दास का उद्धार करो ।।
  • Hey Agadh shaktiyo aur kripya ke swami aapki sada hi jay ho, aapke is das ko kis apradh ka dand mil raha hai, Hey kripa nidhan aapka yah das puja ki vidhi , jap ka niyam , tapasya ki prakriya tatha achar -vichar sambandhi koi bhi gyan nahi rakhta mujh agyani das ka udhar karo.
  • वन उपवन, मग गिरि गृह माहीं । तुम्हरे बल हम डरपत नाहीं ।।
    पांय परों कर ज़ोरि मनावौं । यहि अवसर अब केहि गोहरावौं ॥10॥
  • आपकी कृपा का ही प्रभाव है कि जो आपकी शरण में है वह कभी भी किसी भी प्रकार के भय से भयभीत नहीं होता चाहे वह स्थल कोई जंगल हो अथवा सुन्दर उपवन चाहे घर हो अथवा कोई पर्वत ।।
    हे प्रभु यह दास आपके चरणों में पड़ा हुआ हुआ है , हाथ जोड़कर आपके अपनी विपत्ति कह रहा हूँ , और इस ब्रह्माण्ड में भला कौन है जिससे अपनी विपत्ति का हाल कह रक्षा की गुहार लगाऊं ।।
  • Aapki kripa ka hi prabhav hai ki jo aapki saran me hai vah kabhi bhi kisi bhi prakar ke bhay se bhaybhit nahi hota chahe vah isthal koi jungal ho athva sundar upvan chahe ghar ho athva koi parvat.
    hey prabhu yah das aapke charno me para hua hai, hath jodkar aapke apni bipati kah raha hu, aur is brahamand me bhala kaun hai jisse apni bipati ka hal kah raksha ki guhar lagau.
  • जय अंजनि कुमार बलवन्ता । शंकर सुवन वीर हनुमन्ता ।।
    बदन कराल काल कुल घालक । राम सहाय सदा प्रति पालक ॥11॥
  • हे अंजनी पुत्र हे अतुलित बल के स्वामी , हे शिव के अंश वीरों के वीर हनुमान जी मेरी रक्षा करो ।।
    हे प्रभु आपका शरीर अति विशाल है और आप साक्षात काल का भी नाश करने में समर्थ हैं , हे राम भक्त , राम के प्रिय आप सदा ही दीनों का पालन करने वाले हैं ।।
  • Hey anjani putra hey atulit bal ke swami, Hey shiv ke ansh ke veer hanuman ji meri raksha karo
    Hwy prabhu aapka sarir ati vishal hai aur aap sakshat kaal ka bhi naas karne me samarth hai, Hey ram bhakt, ram ke priye aap sada hi dono ka palan karne wale hai.
  • भूत प्रेत पिशाच निशाचर । अग्नि बेताल काल मारी मर ।।
    इन्हें मारु तोहिं शपथ राम की । राखु नाथ मरजाद नाम की ॥12॥
  • चाहे वह भूत हो अथवा प्रेत हो भले ही वह पिशाच या निशाचर हो या अगिया बेताल हो या फिर अन्य कोई भी हो ।।
    हे प्रभु आपको आपके इष्ट भगवान राम की सौगंध है अविलम्ब ही इन सबका संहार कर दो और भक्त प्रतिपालक एवं राम-भक्त नाम की मर्यादा की आन रख लो ।।
  • Chahe vah bhut ho athva pret ho bhale hi vah pishach ya nishachar ho ya agiya betal ho ya fir anya koi bhi ho.
    Hey prabhu aapko aapke ishat bhagwan raam ki saugandh hai abilamb hi in sabka sanhar kar do aur bhakt pratipalak aur raam bhakt naam ki maryada ki aan rakh lo.
  • जनकसुता हरि दास कहावौ । ताकी शपथ विलम्ब न लावो ।।
    जय जय जय धुनि होत अकाशा । सुमिरत होत दुसह दुःख नाशा ॥13॥
  • प्हे जानकी एवं जानकी बल्लभ के परम प्रिय आप उनके ही दास कहाते हो ना , अब आपको उनकी ही सौगंध है इस दास की विपत्ति निवारण में विलम्ब मत कीजिये ।।
    आपकी जय-जयकार की ध्वनि सदा ही आकाश में होती रहती है और आपका सुमिरन करते ही दारुण दुखों का भी नाश हो जाता है ।।
  • Hey janaki aur janaki balabh ke param priye aap unke hi daas kahate ho na, ab aapko unki hi saugandh hai is das ki vipati nivaran me bilamb maat kijiye
    Aapki jay jaykar ki dhawani sada hi dhawani sada hi aakash me hoti rahti hai aur aapka sumiran karte hi darun dukho ka bhi nash ho jata hai
  • चरण पकर कर ज़ोरि मनावौ । यहि अवसर अब केहि गौहरावौं ।।
    उठु उठु उठु चलु राम दुहाई । पांय परों कर ज़ोरि मनाई ॥14॥
  • हे रामदूत अब मैं आपके चरणों की शरण में हूँ और हाथ जोड़ कर आपको मना रहा हूँ – ऐसे विपत्ति के अवसर पर आपके अतिरिक्त किससे अपना दुःख बखान करूँ ।।
    हे करूणानिधि अब उठो और आपको भगवान राम की सौगंध है मैं आपसे हाथ जोड़कर एवं आपके चरणों में गिरकर अपनी विपत्ति नाश की प्रार्थना कर रहा हूँ ।।
  • Hey ramdut ab mai aapke charno ki sharan me hu aur hath jod kar aapko mana raha hu - aise bipati ke aushar par aapke atirikt kisse apna dukh bakhan karu
    Hey karunanidhi ab utho aur aapko bhagwan ram ki saugandh hai mai aapse hath jorkar aur aapke charno me girkar apni bipati nash ki prathna kar raha hu.
  • ॐ चं चं चं चं चं चपल चलंता । ऊँ हनु हनु हनु हनु हनु हनुमन्ता ।।
    ऊँ हं हं हांक देत कपि चंचल । ऊँ सं सं सहमि पराने खल दल ॥15॥
  • हे चं वर्ण रूपी तीव्रातितीव्र वेग (वायु वेगी ) से चलने वाले, हे हनुमंत लला मेरी विपत्तियों का नाश करो ।।
    हे हं वर्ण रूपी आपकी हाँक से ही समस्त दुष्ट जन ऐसे निस्तेज हो जाते हैं जैसे सूर्योदय के समय अंधकार सहम जाता है ।
  • Hey chan varn rupi tirvstitiarv veg se chalne wale , hey hanumant lala meri vipatiyo ka naas karo,
    Hey han varn aapki hank se hi samasth dust jan aise nistej ho jate hai jaise suryoday ke samay andhkar saham jata hai.
  • अपने जन को तुरत उबारो । सुमिरत होय आनन्द हमारो ।।
    यह बजरंग बाण जेहि मारै । ताहि कहो फिर कौन उबारै ॥16॥
  • हे प्रभु आप ऐसे आनंद के सागर हैं कि आपका सुमिरण करते ही दास जन आनंदित हो उठते हैं अब अपने दास को विपत्तियों से शीघ्र ही उबार लो ।।
    यह बजरंग बाण यदि किसी को मार दिया जाए तो फिर भला इस अखिल ब्रह्माण्ड में उबारने वाला कौन है ?
  • Hey prabhu aap aise aanand ke sagar hai ki aapka sumiran karte hi daas jan anandit ho uthate hai jab apne das ko bipatiyo se sigharh hi ubar lo.
    yah bajrang baan yadi kisi ko maar diya jaye to fir bala is akhil brahamand me ubarne wala kaun hai?
  • पाठ करै बजरंग बाण की । हनुमत रक्षा करैं प्राम की ।।
    यह बजरंग बाण जो जापै । ताते भूत प्रेत सब कांपै ॥17॥
  • जो भी पूर्ण श्रद्धा युक्त होकर नियमित इस बजरंग बाण का पाठ करता है , श्री हनुमंत लला स्वयं उसके प्राणों की रक्षा में तत्पर रहते हैं ।।
    जो भी व्यक्ति नियमित इस बजरंग बाण का जप करता है , उस व्यक्ति की छाया से भी बहुत-प्रेतादि कोसों दूर रहते हैं ।।
  • Jo bhi purn sardha yukat hokar niyamit is bajrang baan ka path karta hai, sree hanumant lala swem uske prano ki raksha ki raksha me tatpar rahte hai.
    Jo bhi byakati niymit is bajrang baan ka jaap karta hai, us byakati ki chhaya se bhi bahat pretadi kosho dur rahte hai.
  • धूप देय अरु जपै हमेशा । ताके तन नहिं रहै कलेशा ॥18॥
  • जो भी व्यक्ति धुप-दीप देकर श्रद्धा पूर्वक पूर्ण समर्पण से बजरंग बाण का पाठ करता है उसके शरीर पर कभी कोई व्याधि नहीं व्यापती है ।।
  • Jo bhi byakati dhup deep dekar sardha puvak purn samparn se bajrang baan ka path karta hai uske sareer par kabhi koi byadhi nahi byapti hai.
  • ॥दोहा॥
    उर प्रतीति दृढ सरन हवै,पाठ करै धरि ध्यान।
    बाधा सब हर करै,सब काज सफल हनुमान।
    प्रेम प्रतीतिहि कपि भजे,सदा धरै उर ध्यान।
    तेहि के कारज सकल सुभ,सिद्ध करैं हनुमान॥॥19॥
  • प्रेम पूर्वक एवं विश्वासपूर्वक जो कपिवर श्री हनुमान जी का स्मरण करता हैं एवं सदा उनका ध्यान अपने हृदय में करता है उसके सभी प्रकार के कार्य हनुमान जी की कृपा से सिद्ध होते हैं ।।
  • Prem puravak aur vishwaspuravak jo kapivar shree hanuman jee ka smaran karta hai aur sada unka dhayan aapne hirdya me karta hai uske sabhi prakar ke karya hanumaan ji ki kripya se sidh hote hai.

This is the end of shiv tandav stotram Lyrics. if you find any mistake then let us known by filing the contact us form with correct Lyrics.

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

buttons=(Accept !) days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !